November 26, 2020

इकबाल मिर्ची से जुड़ी 600 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी जब्त

Spread the love

ईडी की बड़ी कार्रवाई
नई दिल्ली।
आतंकी फंडिंग पर शिकंजा कसते हुए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम कासकर के करीबी सहयोगी दिवंगत इकबाल मिर्ची व उसके परिवार के सदस्यों द्वारा अर्जित सात संपत्तियों को जब्त किया, जिसका मूल्य 600 करोड़ रुपये है। ईडी की यह कार्रवाई वित्तीय जांच एजेंसी द्वारा मुंबई के पीएमएलए (धनशोधन रोकथाम अधिनियम) कोर्ट में मिर्ची व उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ धनशोधन जांच में आरोप पत्र दायर करने के दो दिन बाद की गई है।
वित्तीय जांच एजेंसी ने कहा कि जब्त की गई संपत्तियों में वाणिज्यिक इमारतें -वर्ली में स्थित सीजे हाउस, मुंबई के ताड़देव इलाके में अरुण चैंबर्स शामिल हैं, जिसका मूल्य 76 करोड़ रुपये है। केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि अन्य जब्त की गई संपत्तियों का मूल्य 500 करोड़ रुपये है, जिसमें साहिल बंगलो, राबिया मैंसन, मैरियम लॉज और वर्ली के प्राइम लोकेशन पर सी व्यू शामिल है। क्रॉफर्ड मार्केट में तीन वाणिज्यिक दुकानें और लोनावाला में पांच एकड़ जमीन भी जब्त की गई है। ईडी अधिकारियों के अनुसार, मिर्ची के पास इन संपत्तियों का मुंबई व महाराष्ट्र के कुछ अन्य हिस्सों में अप्रत्यक्ष रूप से स्वामित्व था। एजेंसी ने कहा कि जांच के दौरान ईडी ने इकबाल मिर्ची की लंदन, दुबई व मुंबई में 30 संपत्तियों की पहचान की है, जिसका मूल्य 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा है।
एजेंसी ने एक बयान में कहा कि मिर्ची परिवार के पास 15 मंजिला सीजे हाउस की वाणिज्यिक संपत्ति के तीसरी और चौथी मंजिल पर 14,000 वर्ग फुट का स्वामित्व है। एजेंसी का दावा है कि, इस इमारत को मिलेनियम डेवलेपर द्वारा फिर से विकसित किया गया। इसके कुछ प्लाट पर पहले ही एम.के.मोहम्मद का कब्जा था। मिर्ची ने अपनी पत्नी हजरा मेनन के नाम पर संपत्ति के अधिकार के लिए मोहम्मद के साथ समझौता किया। यह समझौता 9 लाख रुपये में 1986 में किया गया। लेकिन सिर्फ भुगतान 20,000 रुपये किए गए। इस संपत्ति पर मेनन ने उसी साल कब्जा कर लिया। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता प्रफुल्ल पटेल के भी सीजे हाउस में दो फ्लैट हैं। वह मिलेनियम डेवेलपर्स में शेयरहोल्डर हैं और पटेल भी ईडी के स्कैनर में है और उनसे एजेंसी पहले ही पूछताछ कर चुकी है।
००