July 24, 2021

अतिव्रष्टि से 8 हजार करोड का नुकसान: कमलनाथ

Spread the love

भोपाल।प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बताया कि पिछले छह महीने में प्रदेश भर में हुई अतिव्रष्टि से आठ हजार करोड रुपए का नुकसान हुआ है। इनमें 2 हजार करोड की लागत से बनी सडकें खराब हो गई। मुख्यमंत्री आज विधानसभा के विशेष सत्र को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने सदन को जानकारी दी कि केंद्र सरकार ने मदद देने का आश्वासन दिया है। इसके लिए हमने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ग्रहमंत्री राजनाथ सिंह से भी चर्चा की है।उन्होंने मदद का आश्वासन दिया है।उन्होंने सदन को आश्वस्त किया कि हाल ही में हुई ओलाव्रष्टि का सर्वे कराया जाएगा और प्रभावितों को मुआवजा भी दिया जाएगा। धान खरीदी को लेकर सीएम ने कहा कि इसे लेकर पिछले दिनों बैठक में तय किया गया है कि खरीदी की राशि पांच दिन के अंदर दी जाएगी। जरुरत के मुताबिक नए केंद्र खोले जाएंगे, कुछ केंद्रों की लोकेशन बदली जाएगी और मोटा-मोटी लोगों को संतुष्ट किया जाएगा।उन्होंने कहा कि सभी लोगों को एक साथ संतुष्ठ नहीं किया जा सकता है। उन्होंने सदस्यों को आश्वस्त करते हुए कहा कि किसी को पेमेंट में अथवा कोई दूसरी समस्या हो तो मुझे सूचित करें, उसका निराकरण किया जाएगा, प्रदेश के किसानों को किसी भी हाल में परेशान नहीं होने दिया जाएगा।
इससे पहले विधानसभा में विशेष सत्र की कार्यवाही प्रारंभ होते ही यह मामला भाजपा के वरिष्ठ विधायक नरोत्तम मिश्रा ने उठाते हुए चंबल क्षेत्र में ओला व्रष्टि से नुकसान होने और धान की खरीदी नहीं होने की ओर ध्यान आकर्शित कराया गया। साथ ही उन्होंने अतिथि विद्वान एवं किसानों की परेशानी का हवाला देते हुए सदन में तात्कालिक मुददों पर चर्चा करवाने का अनुरोध विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति से किया। उनसे सहमति जताते हुए नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्ग्व ने भी की कि सभी विधायकों की राय है कि यह विशेष सत्र उपयोगी होना चाहिए इसलिए सत्र को तात्कालिक महत्व के विषयों पर चर्चा कर ऐसा किया जा सकता है। श्री मिश्रा के प्रश्न का उत्तर देते हुए संसदीय कार्यमंत्री डा गोविंद ने जानकारी दी कि ओलाव्रष्टि की जानकारी ले ली गई है, कलेक्टरों को निर्देशित कर दिया गया है जानकारी एकत्रित की जा रही हैं। मंत्री के जवाब से असंतुष्ट मिश्रा ने सरकार पर सदन को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि दो दिन पहले ओलाव्रष्टि हुई है और मंत्री जी कर रहे हैं कि हमने सर्वे करवा लिया है। यह सही नहीं है। जवाब डा सिंह कहा कि आपने सही सुना नहीं है मैंने सर्वे कराने का नहीं जानकारी लेने की बात कही है। उन्होंने कहा कि इस विषय पर राजनीति करना उचित नहीं होगा