April 12, 2021

हिमाचल में सबसे महंगा सेव ब्लैक एप्पल

Spread the love

शिमला । दुनिया में तिब्बत की एक पहाड़ी पर उगने वाले ब्लैक डायमंड विश्व का सबसे महंगा सेब माना जा रहा है। सेबों के लिए प्रसिद्ध हिमाचल प्रदेश में इससे मिलते-जुलते रंग की एक प्रजाति का उत्पादन किया जा रहा है। रंग से लेकर गुणों तक इस ब्लैक एप्पल का मैजिक न केवल बागवानों, बल्कि खरीदारों के भी सर चढ़कर बोल रहा है। गहरे काले रंग का ये सेब ब्लैक डायमंड की बराबरी कर रहा है. हिमाचल में रेड विलौक्स वैरायटी का सेब इसकी तरह दिखता है और कीमत भी बहुत ज्यादा है। शिमला जिले के कोटखाई इलाके के बखोल पंचायत के रहने वाले एक प्रगतिशील बागवान ने बताया कि रैड विलौक्स वैरायइटी के इस सेब के पौधे को इटली से साल 2008 में आयात किया गया था। पांच साल बाद इसका पौधा फल देने लगता है, इसका पेड़ ज्यादा बड़ा नहीं होता। एक पेड़ में 8 से 10 पेटी का उत्पादन होता है।
शुरूआत में जैसे ही ये सेब पकने लगता है तो गहरे लाल रंग का होता है और अगस्त माह के आ‎खिर तक पूरा पकने पर इसका रंग काला हो जाता है। उन्होंने बताया कि साल 2019 में 23 किलो की एक पेटी 3800 रुपए में बिकी थी। साल 2020 में शिमला की ढली मंडी में ये रिकार्ड 4200 रुपए प्रति पेटी बिका। ये हिमाचल का अब तक का सबसे महंगा सेब है। प्रदेश के सेब बाहुल इलाकों में बहुत से बागवान इसका उत्पादन कर रहे हैं। नेपाल से कुछ बागवान इस वैरायटी के पेड़ को इनसे लेकर गए हैं। माचल के प्रसिद्ध बागवानी विशेषज्ञ ने कहा कि ब्लैक डायमंड दुनिया में सिर्फ तिब्बत की एकमात्र पहाड़ी नियांग में पाया जाता है। इस पहाड़ी की समुद्र तल से ऊंचाई करीब 3100 मीटर यानि 10 हजार 300 फीट है। इस पहाड़ी पर सूर्य की अल्ट्रावाइलेट किरणों के कारण इसका रंग काला हो जाता है। हिमाचल में रैड विलौक्स वैरायटी का सेब पोषक तत्वों से भरपुर है। खाने में बेहद स्वादिष्ट इस सेब में पाचन शक्ति को बढ़ाने वाले फाइबर होते हैं। इसमें मौजूद फाइबर कोलेस्टरोल को कम करने में मदद करते हैं। ये सेब दिल की बीमारियों से लड़ने की क्षमता को भी बढ़ता है। ह्रदय से संबंधित रोगों से पीड़ित होने से बचाता है।

You may have missed