November 24, 2020

शिवसेना ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर सरकार बनाने पर अड़ी, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने 50-50 फॉर्मूले को ठुकराया

Spread the love

मुंंबई ।

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान जारी है. इस बीच मंगलवार को बीजेपी नेता प्रसाद लाड ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की. सियासी गलियारे में ये मुलाकात चर्चा का विषय बना हुआ है क्योंकि राज्य में मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना-बीजेपी में घमासान चल रहा है.

चुनाव नतीजे के बाद से ही शिवसेना ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले पर सरकार बनाने पर अड़ी है. जबकि बीजेपी विधायकों के लिहाज से सबसे बड़ी पार्टी होने का हवाला देते हुए इस फॉर्मूले पर सहमत नहीं है. सोमवार को बीजेपी और शिवसेना ने अलग-अलग महाराष्ट्र के राज्यपाल से भी मुलाकात की थी.

चर्चा है कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह 30 अक्टूबर को होनी बैठक में शामिल नहीं होंगे. उनकी बीजेपी विधायकों के साथ बैठक होनी थी. बताया जा रहा है कि अमित शाह पार्टी विधायकों से मुलाकात के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से भी मिलते और फिर मामले को सुलझा लिया जाता, लेकिन शिवसेना की ओर से की जा रही है बयानबाजी के बाद से अब मामला शांत होता नहीं दिख रहा है.

पहले मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने 50-50 फॉर्मूले में ष्टरू पद के दावे को ठुकराया, फिर शिवसेना के संजय राउत ने पलटवार किया. इस बीच बीजेपी सांसद संजय काकडे ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि शिवसेना के करीब 45 विधायक भाजपा के संपर्क में हैं, जो उनके साथ मिलकर सरकार बनाना चाहते हैं.

बता दें कि शिवसेना के कुल 56 ही विधायक इस बार चुनकर आए हैं. भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद ने कहा कि शिवसेना के 56 में से 45 विधायक भाजपा के साथ सरकार बनाना चाहते हैं, वह लगातार कॉल कर रहे हैं और कह रहे हैं कि सरकार में उन्हें भी शामिल किया जाए.