November 29, 2020

कलेक्टर ने की धान खरीदी के संबंध में की जा रही तैयारियों की समीक्षा

Spread the love

लोरमी में लगेगा सोनोग्राफी मशीन और मुंगेली में बनेगा ऑडिटोरियम,समय सीमा की बैठक संपन्न
मुंगेली।
कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे की अध्यक्षता में आज जिला कलेक्टोरेट स्थित मनियारी सभाकक्ष में साप्ताहिक समय सीमा की बैठक संपन्न हुई। बैठक में उन्होने जिले में संचालित विभिन्न विकास और निर्माण कार्यो की प्रगति की समीक्षा की। बैठक में कलेक्टर डॉ भुरे ने जिले में धान खरीदी हेतु की जा रही तैयारियों की जानकारी दी। बैठक में उन्होने कहा कि राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले में एक दिसम्बर 2019 से धान की खरीदी प्रारंभ होगी। धान खरीदी का कार्य 43 समितियों के 88 उपार्जन केंद्रों के माध्यम से की जाएगी। इस हेतु उन्होने संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में कलेक्टर डॉ. भुरे ने कहा कि जिला मुख्यालय मुंगेली में विभिन्न कार्यक्रमों के लिए ऑडिटोरियम बनाया जायेगा। इसके लिए उन्होने नगर पालिका परिषद मुंगेली के मुख्य नगर पालिका अधिकारी को यथाशीघ्र प्रस्ताव प्रेषित करने के निर्देश दिये। इसी तरह उन्होने विकासखण्ड मुख्यालय लोरमी में सोनोग्राफी मशीन स्थापित किये जायेंगे। इसके लिए उन्होने लोरमी अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को सोनोग्राफी मशीन क्रय हेतु आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में कलेक्टर डॉ भुरे ने मुख्यमंत्री जनचौपाल भेंट मुलाकात के तहत लंबित प्रकरणों की भी जानकारी प्राप्त की। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री जनचौपाल भेंट मुलाकात में प्राप्त आवेदन पत्रों की मुख्यमंत्री निवास कार्यालय द्वारा नियमित समीक्षा की जा रही है। मुख्यमंत्री जनचैपाल से प्राप्त आवेदन पत्रों के निराकरण में किसी प्रकार की लापरवाही और उदासीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होने मुख्यमंत्री जनचैापाल से प्राप्त आवेदन पत्रों का निराकरण निर्धारित अवधि में करने के निर्देश दिये। इसी तरह उन्होने लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत प्राप्त और निराकृत आवेदन पत्रों की जानकारी प्राप्त की और इस अधिनियम के तहत लोगों को निर्धारित अवधि में ही प्रदत्त सेवा प्रदान करने के निर्देश दिये। बैठक में उन्होने महात्मा गांधी रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत लोरमी विकासखण्ड के वनांचल क्षेत्र के लोगों के लिए संचालित कार्यो की जानकारी प्राप्त की। उन्होने लोरमी विकासखण्ड के 43 वनांचल क्षेत्र के ग्रामों के लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न कार्य स्वीकृत करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये। बैठक में उन्होने कहा कि लोगों में नशा करने की प्रवृत्ति दिनों दिन बढ़ती जा रही है। इसकी रोकथाम एवं लोगों को समझाइश देने के लिए जिला चिकित्सालय के समीप नशा मुक्ति केंद्र स्थापना के लिए समाज कल्याण विभाग के उपसंचालक को आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में उन्होने जिले में संचालित छात्रावास आश्रमों के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होने कहा कि कुछ छात्रावासों में कुछ छात्र अवैध रूप से निवास कर रहे है। जिससे नियम के तहत रहने वाले छात्रों-छात्राओं के पढ़ाई में भी प्रभाव पढ़ रहा है। जिसे देखते हुए उन्होने सभी अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व और आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त को छात्रावासों का आकस्मिक जांच करने के निर्देश दिये। इसी तरह उन्होने कहा कि कुछ छात्रावास में गांव के ही स्थानीय छात्र-छात्राओं को प्रवेश दिया गया है जो नियम के विरूद्ध है। इस संबंध में भी उन्होने जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये है। इस अवसर पर वनमण्डलाधिकारी कुमार निशांत, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एचके शर्मा, अपर कलेक्टर राजेश नशीने, सभी अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्वए विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी, सभी जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और नगरीय निकायों के सभी मुख्य नगर पालिका अधिकारी उपस्थित थे।