November 24, 2020

बंदियों के शव से खाद बना रहा किम जोंग

FILE PHOTO: North Korean leader Kim Jong Un attends the 5th Plenary Meeting of the 7th Central Committee of the Workers' Party of Korea (WPK) in this undated photo released on December 31, 2019 by North Korean Central News Agency (KCNA). KCNA via REUTERS ATTENTION EDITORS - THIS IMAGE WAS PROVIDED BY A THIRD PARTY. REUTERS IS UNABLE TO INDEPENDENTLY VERIFY THIS IMAGE. NO THIRD PARTY SALES. SOUTH KOREA OUT./File Photo

Spread the love

प्योंगयांग। उत्तर कोरिया का सनकी तानाशाह किम जोंग उन अक्सर अपनी अटपटी हरकतों के लिए दुनियाभर में चर्चा में बना रहता है। इस बीच किम जोंग के चंगुल से छूटी एक बंदी ने बेहद सनसनीखेज दावा किया है। बंदी ने कहा है कि उत्तर कोरिया में राजनीतिक बंदियों के शव को खेतों में खाद के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ताकि अच्छी पैदावार हो। उत्तर कोरिया में बंदी रह चुकीं किम इल सून ने इस राक्षसी प्रवृत्ति के बारे में यह बड़ा खुलासा किया है। किम इल सून उत्तर कोरिया के केइचोन यातना शिविर में बंदी था। यह शिविर प्योंगयांग के उत्तर में स्थित है। उन्होंने बताया कि इस यातना शिविर की सुरक्षा में तैनात सुरक्षा गार्डों के लिए वहां पर खेती की जाती है। इन खेतों में ही राजनीतिक बंदियों के शव खाद के रूप में इस्तेमाल किए जाते हैं। किम इल सून ने बताया कि सुरक्षा गार्डों को यह तरीका बेहद सफल लगता है और वे इसे शिविर के चारों ओर स्थित पहाड़ी जमीन में आजमा रहे हैं। सून ने यह खुलासा ऐसे समय पर किया है जब उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय निंदा का सामना कर रहा है। यही नहीं जब दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है, तब नॉर्थ कोरिया ने मिसाइल टेस्ट किया है।
शिविर के आसपास की जमीन बहुत उपजाऊ
सून ने कहा, शिविर के आसपास की जमीन बहुत उपजाऊ है और वहां खेती करना बेहद सफल है। इसकी वजह यह है कि वहां पर इंसानों के शव को दफन किया गया है जो प्राकृतिक खाद का काम करते हैं। कुछ सुरक्षा गार्डों का कहना है कि उन्हें पूरी जमीन में लाशों को दफनाना चाहिए ताकि यह पूरे इलाके को उपजाऊ बना दे। उत्तर कोरिया गार्ड लोगों को पहाड़ों में दफन करते हैं। एक बार एक बच्चा पहाड़ों की ओर चला गया तो उसने देखा कि एक हाथ बाहर निकला हुआ था। दरअसल, वे शव को ठीक से गाडऩा भूल गए थे।