May 12, 2021

दुर्ग का खुड़मुड़ा हत्याकांड

Spread the love

CM बघेल ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात; चारों बच्चों के नाम एक-एक लाख की FD, पढ़ाई का खर्च भी उठाएंगे
मुख्यमंत्री गांव पहुंचे परिजनों से मिलने, मृतक के भाई को भरण-पोषण के लिए एक लाख रुपए
कहा- आरोपियों के पकड़े जाने तक जांच जारी रहेगी, हत्याकांड में किसी परिचित के होने की आशंका
रायपुर से सटे अमलेश्वर क्षेत्र में 21 दिसंबर को एक ही परिवार के 4 लोगों की हत्या कर दी गई थी
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दुर्ग के खुड़मुड़ा हत्याकांड में अनाथ हुए चारों बच्चों के नाम एक-एक लाख रुपए की FD कराने की घोषणा की है। साथ ही बच्चों का खर्च भी CM उठाएंगे। उन्होंने मृतक के भाई को बच्चों के भरण-पोषण के लिए एक लाख रुपए दिए। CM बघेल ने हत्याकांड में किसी परिचित के शामिल होने की आशंका जताई। उन्होंने कहा, जब तक आरोपी पकड़े नहीं जाएंगे, जांच जारी रहेगी।

शुक्रवार दोपहर दुर्ग के खुड़मुड़ा गांव पहुंचे मुख्यमंत्री बघेल ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की। इस दौरान मुख्यमंत्री करीब एक घंटे वहां रहे। उन्होंने परिवार के चारों मृतकों को श्रद्धा सुमन अर्पित की और गांव के सरपंच सहित अन्य लोगों से भी जानकारी ली। CM बघेल ने कहा, परिवार में चारों बच्चे बहुत छोटे-छोटे हैं। ये मेरे विधानसभा की घटना है, इसलिए चारों बच्चों की पढ़ाई का पूरा खर्च मैं स्वयं उठाता हूं।

वारदात में बिल्डर का एंगल नहीं, लेकिन जांच हर एंगल में होगी
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, घटना बहुत दुखद है। पुलिस इस मामले की तेजी से जांच कर रही है। मैं चाहूंगा कि इस मामले के आरोपी जल्द से जल्द पकड़े जाएं। उन्होंने कहा कि वारदात में बिल्डर का एंगल नहीं है। घर में रुके किसी व्यक्ति ने रात 3 बजे एक-एक कर सबको मार दिया। पुलिस हर एंगल से जांच कर रही है। भू माफिया हो, परिचित हो या फिर कोई और, किसी भी एंगल को छोड़ा नहीं जाएगा।

किसान, उसकी पत्नी, बेटे व बहू की हत्या कर दी गई थी
रायपुर से सटे अमलेश्वर के खुड़मुड़ा गांव में सोमवार सुबह बालाराम सोनकर, उनकी पत्नी दुलारी, बेटे रोहित और बहू कीर्ति का शव घर में ही पड़े मिले थे। इस हत्याकांड में 11 साल के दुर्गेश सहित उसके 3 छोटे भाई-बहन अनाथ हो गए। दुर्गेश अभी रायपुर स्थित अस्पताल में भर्ती है, जबकि तीनों अन्य बच्चे अपने रिश्तेदारों के घर रह रहे हैं। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री से बात करने के बाद सरपंच धर्मेंद्र सोनकर ने भी पीड़ित परिवार को 50 हजार की सहायता दी है।