November 24, 2020

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने निर्वाचन कार्य के लिए नया मोबाइल और हड़ताल अवधि का वेतन मांगा

Spread the love

छग जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर समस्याएं बताई

कवर्धा। छग जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ ने गुरुवार को विभिन्न मांगों के साथ जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। इस ज्ञापन में संघ ने कहा है कि शासन द्वारा दी गई मोबाइल बार बार खराब होता है। जिससे कार्य करने मेंे परेशानी होती है। मोबाइल की मरम्मत व्यवस्था एवं खर्च विभाग द्वारा कराने, निर्वाचन कार्य के लिए नए मोबाइल एवं हड़ताल अवधि का वेतन देने की मांग की गई है।

संघ ने कहा है कि महिला बाल विकास विभाग द्वारा जो एंड्राइड मोबाइल दिया गया है, वह आए दिन खराब होती रहती है। उसे सुधारने की भी ठीक से व्यवस्था नहीं हो पाती। ऐसे में उस मोबाइल में निर्वाचन ऐप डाउनलोड कर मतदाता सत्यापन कर पाना कठिनाई भरा कार्य है। क्योंकि मोबाइल में डाउनलोड नहीं होता। बहुत कम मानदेय पर कार्य करने वाले आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के पास स्वयं का एंड्राइड मोबाइल नहीं है। इसलिए परेशानी को देखते हुए हमें निर्वाचन कार्य के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा नए मोबाइल दिलाना जरूरी है। निर्वाचन कार्य सुगमता पूर्वक करने के लिए संघ ने प्रशासन से मार्गदर्शन भी मांगा है।

संघ की जिलाध्यक्ष पार्वती यादव ने कहा है कि विभिन्न मांगों के साथ 5 मार्च से 22 अप्रैल 18 तक अनिश्चितकालीन आंदोलन चलाया था। पूरे 49 दिनों तक चले आंदोलन के दौरान महिला बाल विकास विभाग के सचिव एवं अन्य अधिकारियों के साथ संघ के प्रांतीय प्रतिनिधियों के बीच मांगों पर सहमति बनी और जल्द से जल्द मांगों को पूरा करने का आश्वासन के बाद संगठन द्वारा काम पर वापसी का निर्णय लिया गया था। इस दौरान बर्खास्त 76 आंगनबाड़ी बहनें न्यायालयीन प्रक्रिया से बहाल हुई। हर कार्य को निष्ठा पूर्वक पूरी प्रमाणिकता के साथ करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की आर्थिक कठिनाइयों को देखते हुए हड़ताल अवधि का मानदेय दिलाया जाय।

मोबाइल मरम्मत की समुचित व्यवस्था विभाग के पास नहीं

सुपरवाइजर स्वयं के खर्च से मोबाइल मरम्मत कराने निर्देश संघ ने कहा है कि मोबाइल बार-बार खराब होता रहता है। इस कारण कार्य में बहुत परेशानी आ रही है। कुछ कार्यकर्ताओं का मोबाइल काम ही नहीं कर रहा है खराब हो रहे मोबाइल की मरम्मत की समुचित व्यवस्था विभाग के पास नहीं है। सुपरवाइजर द्वारा निर्देशित किया जाता है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता स्वयं के खर्च से अपने मोबाइल की मरम्मत कराएं और काम करें। कम मानदेय पर काम करने वाले आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए स्वयं के खर्च पर आना और मोबाइल का मरम्मत कराना अतिरिक्त आर्थिक बोझ है। अतः मोबाइल मरम्मत के लिए विभाग द्वारा ही किसी मैकेनिक की व्यवस्था कर मरम्मत राशि वहन करने आदेशित करने की मांग की गई है।

खराब मोबाइल के कारण बीएलओ की परेशानी बढ़ी

संघ ने कहा है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओंे को ही बीएलओ का कार्य दिया गया है। वर्तमान में विभाग द्वारा बीएलओ को मतदाता सत्यापन का कार्य सौंपा गया है। जिसके लिए उन्हें निर्वाचन ऐप डाउनलोड करने निर्देशित किया गया है। लेकिन उनका मोबाइल बार बार खराब होने के कारण उसमें निर्वाचन ऐप डाउनलोड करना कठिन ही नहीं दुष्कर भी है।