January 17, 2021

बीएसपी की हाइड्रॉलिक्स टीम ने अपने इनोवेटिव प्रयासों से जर्मन मेक

Spread the love

यूनिफ्लेक्स मशीन का किया संधारण

दुर्ग-भिलाई: सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्मिक अपने क्रिएटिव प्रयासों के लिए जाने जाते हैं। प्रत्येक विभागों मंे ऐसे सृजनशील व्यक्ति हैं जो चुनौतियों को स्वीकार कर अपने हूनर से कुछ बेहतर कर जाते हैं। एक ऐसे ही इनोवेटिव प्रयास की कहानी है बीएसपी के हाइड्रॉलिक विभाग की।

समस्या व चुनौतियाँ
सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के हाइड्रॉलिक विभाग में यूनिफ्लेक्स ;न्छप्थ्स्म्ग्द्ध मेक-200 मशीन एक बहुत ही महत्वपूर्ण व उपयोगी मशीन है। इसका इस्तेमाल विभाग में हाइड्रॉलिक होज के क्रिम्पिंग के लिए किया जाता है। यह मशीन यूनिफ्लेक्स जर्मनी द्वारा निर्मित है। पिछले ढाई वर्षों से यह मशीन याँत्रिक गड़बडी, क्षति एवं सील किट की अनुपलब्धता के कारण प्रचालन में नहीं लाई जा रही थी। इसके अलावा प्रचालन में न होने के कारण यूनिफ्लेक्स पूर्जों की आपूर्ति करने में असमर्थ था। इन चुनौतियों पर विजय पाने हेतु हाइड्रॉलिक्स टीम ने विचार-मंथन प्रारंभ किया और इसके इन-हाउस रिपेयर का बीड़ा उठाया।

सृजनशील टीम के प्रयास

उल्लेखनीय है कि संयंत्र के हाइड्रॉलिक्स विभाग के महाप्रबंधक आर सी दोहरे के मार्गदर्शन व सहायक प्रबंधक महेश गुहा के नेतृत्व में टीम के सदस्यों जे पुन्ना राव (वरिष्ठ तकनीशियन) एवं अभिषेक कुमार सिंह (ओसीटी) व उनकी टीम ने इस मशीन को रिपेयर करने की चुनौती को स्वीकार किया। इस रिपेयर कार्य के लिए टीम के समर्पित सदस्यों ने स्थानीय बाजार से सील किट की व्यवस्था की और इसके रिपेयर कार्य को बखूबी संपादित किया। संयंत्र के मार्स-2 में इसके सिलेंडर्स की मशीनिंग की गई। अब यह मशीन सफलतापूर्वक कार्य संपादित कर रहा है। परिणाम स्वरूप पूरे संयंत्र में हाइड्रॉलिक्स होज़ की आपूर्ति को सुनिश्चित करने में मदद मिली।
उत्कृष्ट कार्य हेतु मिली प्रशंसा

संयंत्र के मुख्य महाप्रबंधक (मेकेनिकल) एस के कटारिया ने इस विशिष्ट कार्य के संपादित होने पर कहा कि अप्रत्याशित चुनौतियों को स्वीकार कर टीम के सदस्यों ने बेहतर तालमेल, प्रभावी सहयोग तथा उत्कृष्ट कार्यकुशलता का परिचय देते हुए इस कार्य को बखूबी अंजाम दिया, यह कम्पनी के प्रति उनकी समर्पण की भावना को प्रदर्शित करता है। टीम की यह उपलब्धि निश्चित ही सराहनीय है। मुख्य महाप्रबंधक (मेकेनिकल) एस के कटारिया ने इस महत्वपूर्ण कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए टीम को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।