January 20, 2021

वोकल फॉर लोकल की घर-घर गूंज

Spread the love

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को इस साल के आखिरी ‘मन की बात’ कार्यक्रम से देश की जनता को संबोधित किया। पीएम मोदी इस कार्यक्रम के जरिए 72वीं बार देश को संबोधित किया और कहा कि हर साल नए साल पर कोई प्रण लेते हैं, इस बार भी प्रण लें और हमारे देश में, हमारे देशवासियों के खून-पसीने से बने उत्पादों को खरीदें। उन्होंने यह भी कहा कि देश के मैन्युफैक्चरर्स को ध्यान देना होगा कि अब भारत के उत्पादों को दुनिया में पहचान मिले। पीएम मोदी ने झारखण्ड की कोरवा जनजाति के हीरामन जी की प्रेरणादायक कहानी सुनाई, जिन्होंने 12 साल के अथक परिश्रम के बाद विलुप्त होती, कोरवा भाषा का शब्दकोष तैयार किया है।
पीएम मोदी ने संबोधन की शुरुआत में ही बताया कि यह इस साल की आखिरी ‘मन की बात’ है। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘हमारा देश, 2021 में, सफलताओं के नए शिखर छुए, दुनिया में भारत की पहचान और सशक्त हो, इसकी कामना से बड़ा और क्या हो सकता है।’

जानें पीएम मोदी की कही बड़ी बातें

जब तक जिज्ञासा है, तब तक जीवन है: पीएम मोदी
अभी दो दिन पहले ही गीता जयंती थी। गीता, हमें, हमारे जीवन के हर सन्दर्भ में प्रेरणा देती है: पीएम मोदी
आपको यह जानकर खुशी होगी कि कश्मीरी केसर को जीआई टैग का सर्टिफिकेट मिलने के बाद दुबई के एक सुपर मार्किट में इसे लॉन्च किया गया। अब इसका निर्यात बढ़ने लगेगा। यह आत्मनिर्भर भारत बनाने के हमारे प्रयासों को और मजबूती देगा: पीएम मोदी- आपको यह जानकर खुशी होगी कि कश्मीरी केसर को जीआई टैग का सर्टिफिकेट मिलने के बाद दुबई के एक सुपर मार्किट में इसे लॉन्च किया गया। अब इसका निर्यात बढ़ने लगेगा। यह आत्मनिर्भर भारत बनाने के हमारे प्रयासों को और मजबूती देगा: पीएम मोदी
प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु की टीचर हेमलता एन.के. की तारीफ की। हेमलता जी विडुपुरम के एक स्कूल में दुनिया की सबसे पुरानी भाषा तमिल पढ़ाती हैं।
हम सबने इंसानों वाली वीलचेयर देखी है, लेकिन, कोयंबटूर की एक बेटी गायत्री ने, अपने पिताजी के साथ, एक पीड़ित कुत्ते के लिए वीलचेयर बना दी। ये संवेदनशीलता, प्रेरणा देने वाली है, और, ये तभी हो सकता है, जब व्यक्ति हर जीव के प्रति, दया और करुणा से भरा हुआ हो: पीएम
आइये, दूसरों की देखभाल के लिए सेवा-भाव से भरे इस प्रकार के प्रयासों को प्रोत्साहित करें। यह वास्तव में एक ऐसा सत्कार्य है, जो समाज की संवेदनाओं को सशक्त करता है: पीएम
मेरे प्यारे देशवासियो, अब मैं एक ऐसी बात बताने जा रहा हूं, जिससे आपको आनंद भी आएगा और गर्व भी होगा। भारत में तेंदुओं की संख्या में, 2014 से 2018 के बीच, 60 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी हुई है: पीएम मोदी
2014 में, देश में, तेंदुओं की संख्या लगभग 7,900 थी, वहीं 2019 में, इनकी संख्या बढ़कर 12,852 हो गयी: पीएम मोदी
ये वही तेंदुए हैं जिनके बारे में जिम कॉरबेट ने कहा था- जिन लोगों ने तेंदुओं को प्रकृति में स्वछन्द रूप से घूमते नहीं देखा, वो उसकी खूबसूरती की कल्पना ही नहीं कर सकते। उसके रंगों की सुन्दरता और उसकी चाल की मोहकता का अंदाज नहीं लगा सकते: पीएम
देश के अधिकतर राज्यों में, विशेषकर मध्य भारत में, तेंदुओं की संख्या बढ़ी है । तेंदुए की सबसे अधिक आबादी वाले राज्यों में, मध्यप्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र सबसे ऊपर हैं । यह एक बड़ी उपलब्धि है: पीएम
तेंदुए, पूरी दुनिया में वर्षों से खतरों का सामना करते आ रहे हैं, दुनियाभर में उनके हैबिटैट को नुकसान हुआ है। ऐसे समय में, भारत ने तेंदुए की आबादी में लगातार बढ़ोतरी कर पूरे विश्व को एक रास्ता दिखाया है: पीएम मोदी
आज के ही दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था । अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें, महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें: पीएम मोदी
आप में से बहुत लोग जानते ही होंगे, ये मार्केट दिल्ली में साइकिल और खिलौनों के लिए जाना जाता है। पहले वहां महंगे खिलौनों का मतलब भी इंपोर्टेड खिलौने होता था, और, सस्ते खिलौने भी बाहर से आते थे: पीएम मोदी
जब जनता कर्फ्यू जैसा अभिनव प्रयोग, पूरे विश्व के लिए प्रेरणा बना, जब, ताली-थाली बजाकर देश ने हमारे कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया था, एकजुटता दिखाई थी, उसे भी, कई लोगों ने याद किया है: पीएम मोदी
कोल्हापुर से अंजलि जी ने लिखा है, कि नए साल पर, हम, दूसरों को बधाई देते हैं, शुभकामनाएं देते हैं, तो इस बार हम एक नया काम करें। क्यों न हम, अपने देश को बधाई दें, देश को भी शुभकामनाएं दें । अंजलि जी, वाकई, बहुत ही अच्छा विचार है: पीएम मोदी